सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भगवान गौतम बुद्ध को आत्मज्ञान की प्राप्ति कैसे हुई - वैशाख पूर्णिमा और बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति

Gautam buddha image


सिद्धार्थ जब कपिलवस्तु की सैर पर निकले तो उन्होंने चार दृश्यों को देखा उन्होंने सबसे पहले एक बूढ़े व्यक्ति को देखा तो उन्होंने अपने सारथी से पूछा की यह कौन है।

तब सारथी ने कहाँ की यह एक बूढ़ा व्यक्ति है तब सिद्धार्थ ने पूछा की यह बूढ़ा व्यक्ति क्या होता है तो उनके सारथी ने कहा कि एक दिन सभी को बुढ़ा होना है। तब सिद्धार्थ ने पूछा की मैं भी बूढा हो जाऊंगा? तो सारथी ने कहा  हा एक दिन आप भी इनके जैसा हो जायेंगे। फिर सिद्धार्थ और आगे बढे तो उन्होंने एक बीमार व्यक्ति को देखा तो सिद्धार्थ ने फिर सारथी से पूछा की यह कौन है। तब वह सारथी बोला यह एक बीमार व्यक्ति है, यह किसी को हो सकता है। 

इसके बाद वह और आगे बढे तो सिद्धार्थ ने एक शव को देखा फिर वह सारथी से पूछते है कि यह क्या है, तब सारथी बोला यह सब एक मृत व्यक्ति को लेकर जा रहे है इस संसार में जो जन्मा है उसको एक दिन मृत्यु को प्राप्त होना ही है।

फिर वह अंत में एक सन्यासी को देखा फिर वह सारथी से पूछते है तब वह सारथी बोला की यह एक सन्यासी है यह अपना घर, परिवार और सारी सम्पति का त्याग कर साधु बनकर भगवान की पूजा करता है। यह सब देखने के बाद वह बहुत दुःखी हुए इसलिए वह सत्य की खोज के लिए अपने राज्य को त्यागकर निकल गए वनों की ओर सत्य की खोज के लिए।

गौतम बुद्ध छः वर्ष तक कठोर तपस्या के पश्चात् भी कोई लाभ नही हुआ । समाधी की आठ अवस्था होती है गौतम उन सभी अवस्था को प्राप्त कर लिए थे मगर फिर भी वह जानते थे की यह जीवन की सम्पुणता नही है उनके अंदर अब भी ज्ञान पाने की तीव्र इच्छा थी जब सारे उपाय बेकार गये। 

तब उन्होंने अंतिम मार्ग का सहारा लिया। जिसे समाना कहते है। समाना साधको का मूल पहलू यह है कि वह कभी भी भोजन मांग कर नही खाते अगर भोजन मिला तो उसे ग्रहण करते है अन्यथा वह भोजन नही मांगते केवल कठोर तप करते है इस तरह गौतम का शारीर इतना निर्बल हो गया कि जीवन के नाम पर केवल उनकी श्वास ही चल रही थी।

फिर एक दिन गौतम बुद्ध निराश होकर सोचने लगे मैंने अभी तक कुछ नही प्राप्त किया गौतम यह सोच रहे थे । तभी कुछ स्त्री गौतम के समीप से गुजर रही थी वह सभी स्त्री संगीत गाने वाली थी।

वह आपस में चर्चा करती है कि। वीणा के तार इतना अधिक न कसो और इतना ढीला भी मत छोङो की मधुर स्वर ही न निकले, उसे बस माध्यम में कसो । 

यह सुनकर गौतम ने कठोर तपस्या का मार्ग त्याग दिया और युक्तिपूण संयमित होकर आहार ग्रहण करते हुए, माध्यम मार्ग को अपना लिया और उस बोधि वृक्ष के समीप बैठ गए और पूर्णिमा का चन्द्र उग रहा था। भगवान बुद्ध को परम ज्ञान की प्राप्ति हुई।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जैसा आप सोचते है, आप वैसे ही बन जाते है भगवान बुद्ध की प्रेरणा दायक कहानी - Best Gautam Buddha stories in hindi for life

  Story of Gautam Buddha in hindi ।। Gautam Buddha story in hindi ।। Gautam Buddha life story in hindi ।। Siddharth Gautam Buddha story in hindi एक बार गौतम  बुद्ध और उनके शिष्य एक वन से गुजर रहे होते है। बहुत दूर चलने के बाद भगवान बुद्ध के शिष्य बुद्ध से कहते है, बुद्ध क्या हम कुछ देर विश्राम कर सकते है। बुद्ध कहते है, अवश्य अब हमे विश्राम करना चाहिए, ओ देखो एक बड़ा वृक्ष है। हम उसके नीचे विश्राम करेंगे। बुद्ध और उनके सभी शिष्य उस वृक्ष के नीचे बैठ जाते है। उनमें से एक शिष्य ने बुद्ध कहता है, बुद्ध आपने हमसे एक बात कही थी कि! हम जैसा सोचते है हम वैसा ही बन जाते है। कृपा करके इस कथन को विस्तार से समझाइए, बुद्ध कहते है अवश्य, मै तुम्हे एक छोटी सी कहानी सुनाता हूं। एक नगर में एक बहुत धनी सेठ रहता था। उसके पास धन की कोई कमी नहीं थी। परन्तु फिर भी हर समय धन इकट्ठा करने के बारे में सोचता रहता था। एक बार सेठ के घर उसका एक रिश्तेदार आता है। सेठ उसकी खूब खातेदारी करता है। बातों-बातों में सेठ का रिश्तेदार सेठ से कहता है, अरे सेठ जी हमारे नगर में एक नामी गिरामी सेठ रहता था। वह आप से ज्यादा धनवान