सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गौतम बुद्ध कहानी हिंदी में हर एक के लिए - Gautam Buddha story in hindi for every one

Bhagavan Gautam Buddh ki Hindi kahani

कर्म क्या है भगवान बुद्ध की प्रेरणदायक कहानी Best motivational story in hindi for Gautam Buddha


एक बार गौतम बुद्ध से एक व्यक्ति पूछता है। कर्म क्या है, बुद्ध मुस्कुराते हैं और कहते है, मै तुम्हे एक छोटी सी कहानी सुनाता हूं। एक बार एक राजा अपने मत्री के साथ अपने ही नगर में एक दुकान के सामने से गुजर रहे होते है। राजा का यह अनुभव है कि वह जब भी उस दुकान के सामने से गुजरते हैं तो, उनके भीतर से यह आवाज आती है कि उन्हें उस दुकान वाले को दण्डित करना चाहिए। राजा यह नहीं जानते कि उनके भीतर से यह आवाज क्यों आती है और उनका मन क्रोध से क्यों भर जाता है। वह क्यों उस दुकानदार को दंडित करना चाहते हैं। परंतु वे जब भी उस दुकान से गुजरते हैं, तो उनके मन में यह विचार उठता है। राजा अपने मत्री से कहते है। मत्री क्या तुम इस दुकानदार को जानते हो, मत्री कहता है, नहीं राजन मै इस दुकानदार को नहीं जानता। राजा कहते है, मै जब भी इस दुकान के आस पास होता हूं। मेरा मन क्रोध से भर जाता। मेरा मन करता है कि मै उस व्यक्ति को दंड दू। परन्तु मेरे पास कोई कारण नहीं है। तुम तो जानते ही हो मेरा स्वभाव बड़ा शांत रहा है। परंतु न जाने क्यों जब भी मै इस दुकान के पास से भी गुजरता हूं। तो मेरा मन क्रोध से भर जाता है। जबकि आज तक मै इस दुकानदार से मिला भी नहीं हूं।
मत्री कहता है, हम इस समस्या का कोई न कोई हल जरूर निकाल लेंगे। अब राजा और मत्री अपने महल पहुंच जाते है। राजा कुछ समय बाद यह बात भूल जाता है परन्तु यह बात मत्री को याद रहती है। मत्री इस समस्या का कारण खोजने के लिए भेष बदलकर उस दुकानदार के पास जाता है। और उस दुकानदार से कहता है, और भाई कैसा चल रहा है, तुम्हारा काम। वह दुकानदार कहता है मत पूछो भाई, बड़ी समस्या है, दिन भर बहुत थोडा ही धन इकट्ठा हो पाता है। लोग आते है दुकान पर लकड़ीया देखते है और तारीफ भी करते हैं, परंतु कोई खरीदता नहीं है।
अब तो केवल एक ही उपाय है कि हमारे राजा की मृत्यु हो और उसका मत्री लकड़ी लेने हमारी ही दुकान पर आए तब तो कुछ बात बन सकती हैं वरना इसी तरह गुजारा चलता रहेगा। मत्री कहता है, अरे भाई कुछ लकड़ीया हमें भी दो हम भी खरीदना चाहते है। और कुछ लकडीया खरीद कर वह राजा को दें देता है। और कहता है, महाराज यह लकड़ीया उस दुकानदार ने आपके लिए भेजवाई है। जिसकी दुकान के सामने जाकर आपको उसके प्रति क्रोध महसूस होता है। राजा उस लकड़ीयो को लेते हैं, और उस सुगन्ध को महसूस करते हैं, और कहते है, अरे मै तो बे वजह ही उस व्यक्ति को दण्डित करना चाहता था। वह तो भला व्यक्ति है। राजा कुछ सोने की मोहरे मंगवाता है। और मत्री को कहता है, जाओ ये मोहरे उस व्यक्ति को दे दो जिसने ये लकड़ीया भेजवाई है। और मत्री उन सोने के मोहरे लेजाकर उस दुकानदार को देता है। वह दुकानदार भी बहुत खुश होता है। वह सोचता है, मैंने बिना वजह ही राजा के बारे में इतना गलत सोचा, हमारे राजा तो बहुत नेक इंसान है। 

कहानी खत्म होती है, और बुद्ध उस व्यक्ति से पूछते है कुछ समझ में आया वह व्यक्ति कहता है। कर्म केवल शरीर से ही नहीं विचारो से होता है। बुद्ध कहते है जब तक हम सोचेंगे ही नहीं तब तक हम शरीर का उपयोग कैसे कर सकते है। यदि हम अपने विचारो को सुधार ले तो हमारे सभी कर्म सुधर सकते है। राजा उस व्यक्ति को जानता भी नहीं था, और राजा उस व्यक्ति से कभी मिला भी नहीं था। परन्तु फिर भी राजा उसके प्रति क्रोध से भरा हुआ था। केवल उसके विचारो कि वजह से जो उस दुकानदार ने राजा के प्रति सोच थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जीवन बदल देने वाली प्रेरणा दायक विचार

जितने भी महान लोग हुए है वह कोई अलग कार्य नही करते है, बस वह अपने कार्य को अलग तरीके से करते है, इसलिए उनको सफलता मिलती है। आज ऐसे ही महान लोगो के द्वारा बताए गये (motivational quotes) मोटिवेशनल कोट्स आप सभी के साथ शेयर कर रहे है।कोई भी लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपको सिर्फ दो चीजें चाहिए पहला तो दृढ़ संकल्प और दूसरा कभी न टूटने वाला हौसला। लेकिन संघर्ष के रास्ते में जब आपका हौसला कमजोर पड़ने लगे तो उस समय आपको ऐसी जरूरत होती है जो की आपको एक बार फिर से उठकर खड़े होने की प्रेरणा दे। इसलिए आज हम आपको ऐसी ही सफल और महान लोगे के द्वारा दिए गए सफलता के कुछ ऐसे मंत्र को बताने वाले है । जिन्हें आप अपने मुश्किल समय में अपनी ताकत बना कर खुद को आगे बढने के लिए प्रेरित कर सकते है। प्रेरणा देने वाले विचार ।। prernadayak vichar ।। prernadayak status ।। prernadayak suvichar ।। hindi status for life  “ कामयाब होने के लोए निरंतर सीखते रहे। सिखने से ही आप अपनी क्षमताओं को पहचान सकते है।” “ ख़ुशी के लिए काम करोगे तो ख़ुशी नही मिलेगी लेकिन खुश होकर काम करोगे तो ख़ुशी जरूर मिलेगी।” “ संकल्प मनुष्य क

सभी को हंसाने वाली मजेदार हास्य कविता - kavita hasya in hindi

जीवन में खुश रहना बहुत जरूरी है, जब हम खुश रहते हैं तो हम फ्री माइंड से किसी भी कार्य को करते हैं। वही जब हम दुखी रहते हैं तो हम किसी भी कार्य को अधूरे मन से करते हैं। इसलिए किसी ने कहा है कि, खुशी के लिए काम करोगे तो खुशी नहीं मिलेगी, “लेकिन खुश होकर काम करोगे तो खुशी जरूर मिलेगी”  अब बात आती हैं की खुश कैसे रहे, खुश रहने के लिए आप हास्य कविता funny poem या funny quotes पढ़ सकते हैं। जिससे आप हमेशा खुश रह सकते हैं। इसलिए आज हम आपके लिए खुश करने वाली कुछ हास्य कविता आपके साथ शेयर कर रहे हैं। hasya kavita।। Hasya kavita in hindi for students ।। hasya kavita hindi  hindi hasya kavita ।। hasya kavita for kids ।। Comedy poem in hindi जय बाबा ज्ञान गुर सागर मम्मी हंसती रोते फादर। योगी बाबा जोगी दूर करो पैसे की तंगी। लंकेश्वर भए सब कुछ जाना घुस खोरों से हमे बचाना। भूत पिशाच समीप नहीं आवै पिक्चर की तब बात सुनावै। सब सुख लहै तुम्हारी सरना, मार-पीट से कभी न डरना। सुबह सवेरे ही यह आये भोंपू-भोपू शोर मचाये। जब आप कहे तब सब लोक उजागर रसगुल्ले से भर दो सागर। बाबा अतुलित बल थामा पंक्चर बनाये सब नेता

लघु साहसिक कहानियाँ हिंदी में - Short adventure stories in hindi

  Hindi Short Adventure Stories of Class 7 ।।  Sahas kahani in hindi नमस्कार मित्रो स्वागत है हमारे ब्लॉग पर आज हम आपके लिए लघु साहसिक कहानी लेकर आए हैं। जिसे पढ़ने से आपमें एक सकारातमक ऊर्जा का संचार होगा। मित्रो हम सभी के जीवन में कुछ न कुछ परेशानियाँ आती हैं। लेकिन उस समस्या के समय जो लोग धैर्य से काम करते हैं। वहीं लोग जीवन में आगे बढ़ते हैं। श्रुति की समझदारी प्रेरणा दायक कहानी  best short story in hindi श्रुति एक पुलिस अधिकारी की बेटी थी। वह पढ़ने में काफी तेज थी तथा कक्षा में हमेशा प्रथम आती थी। उसके पिता सरकारी आवास न मिलने के कारण शहर के छोर पर किराए के मकान में रहते थे। वहीं पास में झुग्गी बस्ती थी जहां बहुत से गरीब परिवार रहते थे। वे सब मेहनत मजदूरी करके अपना जीवन यापन करते थे। इसी झुग्गी की एक महिला श्रुति के घर में काम करने आती थी। उसकी दस साल की एक लड़की थी जिसका नाम अंजू था। अंजू अक्सर अपनी मां के साथ श्रुति के घर पर आती थी। अंजू श्रुति के घर उसके साथ खेलती थी। इसलिए अंजू, श्रुति की सहेली बन गई थी। एक दिन श्रुति ने अंजू के स्कूल न जाने का कारण पूछा तो अंजू ने बताया की गर