सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दशहरा पर लघु निबंध - Short essay on Dussehra in Hindi for Class 3

 


about dussehra in hindi ।। dussehra par nibandh ।। vijayadashmi par nibandh ।।essay on dasara in hindi


हिंदुओं द्वारा मनाए जाने वाले त्योहारों का किसी न किसी रूप में कोई विशेष महत्व जरूर है। इन पर्वों से हमें जीवन में उत्साह के साथ-साथ विशेष आनंद की प्राप्ति होती है। हम इनसे परस्पर प्रेम और भाईचारे की भावना ग्रहण कर अपने जीवन को प्रगति के पथ पर आगे बढ़ाते हैं। साथ ही इन त्योहारों से हमें सच्चाई, आदर्श और नैतिकता की शिक्षा भी मिलती है। हिंदुओं के प्रमुख धार्मिक त्योहारों में होली, रक्षाबंधन, दीपावली तथा जन्माष्टमी की तरह दशहरा (विजयादशमी) भी प्रमुख त्योहार है।

Essay on dussehra in hindi

दशहरा मनाने का कारण - दशहरा मनाने का कारण यह है कि इस दिन महान पराक्रमी और मर्यादा-पुरुषोत्तम भगवान राम ने महाप्रतापी व अभिमानी लंका नरेश रावण को पराजित ही नहीं किया अपितु उसका अंत करके उसके राज्य पर भी विजय प्राप्त की थी। इस खुशी और उल्लास में यह त्यौहार प्रतिवर्ष अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी को बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता। शक्ति की अधिष्ठात्री देवी दुर्गा के नौ रूपों की नवरात्र पूजन के पश्चात आश्विन शुक्ल दशमी को इसका समापन कर यह त्यौहार मनाया जाता है। एक अन्य कथा के अनुसार महिषासुर नामक एक राक्षस था। राज्य की जनता उसके अत्याचार से भयभी थी। दुर्गा मां ने उसके साथ युद्ध किया युद्ध के दसवें दिन आखिरकार महिषासुर का मां दुर्गा ने वध कर डाला। इस खुशी में यह पर्व विजय के रूप में मनाया जाता है। बंगाल के लोग इसलिए इस पर्व को दुर्गा पूजा के रुप में मनाते हैं।

Essay on dussehra in hindi

कैसे मनाया जाता है दशहरा - हिंदी भाषी क्षेत्रों में नवरात्र के दौरान भगवान राम पर आधारित लीला के मंचन की प्रथा प्रचलित है। अश्विन शुक्ल प्रतिपदा से रामलीला मंचन का आरम्भ होकर दशमी के दिन रावण वध की लीला मंचित कर विजय पर्व विजयादशमी मनाया जाता है। रावण वध से पहले भगवान राम से संबंधित झांकियां निकाली जाती है। 

पश्चिम बंगाल में यह पर्व दुर्गा पूजा के रूप में मनाया जाता है। वहां के लोगों में यह धारणा है कि इस दिन ही महाशक्ति दुर्गा ने कैलाश पर्वत को प्रस्थान किया था। इसके लिए दुर्गा की याद में लोग दुर्गा पूजा उत्सव मनाते हैं। इसके तहत अश्विन शुक्ला सप्तमी से दशमी (विजयादशमी) तक यह उत्सव मनाया जाता है। इसके लिए यह महापर्व से ही तैयारियां शुरू कर दी जाती है। बंगाल में इन दिनों विवाहित पुत्रियों को माता-पिता द्वारा अपने घर बुलाने की प्रथा है। रात भर पूजा उपासना और अखंड पाठ एवं जाप करते हैं। दुर्गा माता की मूर्तियां सजा-धजा जाकर बड़ी श्रद्धा और शक्ति के साथ उनकी झांकियां निकाली जाती है। बाद में मां दुर्गा की मूर्तियों को पवित्र जलाशयों, नदी या तालाब में विसर्जित कर दिया जाता है। दशहरा का त्योहार मुख्य रूप से राम-रावण युद्ध प्रसंग से ही जुड़ा है। इसको प्रदर्शित करने के लिए प्रतिपदा से दशमी तक रामलीलाएं मंचित की जाती है। दशमी के दिन राम रावण के परस्पर युद्ध के प्रसंगों को दिखाया जाता है। इन लीलाओं को देखकर भक्तजनों के अंदर जहां भक्ति भावना उत्पन्न होती है, वही दुसरी रावण के प्रति क्रोध भी उत्पन्न होता है।

Essay on dussehra in hindi

इस दिन बाजारों में मेला सा लगा रहता है। शहर ही नहीं छोटे-छोटे गांव में इस दिन मेले लगते हैं। किसानों के लिए इस दिन त्यौहार का विशेष महत्व है। वे इस समय खरीफ की फसल काटते हैं। इस दिन सत्य के प्रति के शास्त्रों का शास्त्रीय विधि से पूजन भी किया जाता है। प्राचीन काल में वर्षा काल के दौरान युद्ध करना प्रतिबंधित था। विजयादशमी पर शास्त्रागारो से शस्त्र निकालकर उनका शास्त्रीय विधि से पूजन किया जाता था। शास्त्र पूजन के पश्चात ही शत्रु पर आक्रमण और युद्ध किया जाता था।

निष्कर्ष - दशहरा का त्यौहार हमारी सभ्यता और संस्कृति का प्रतीक है। इसे मनाते समय हमें पाप-पुण्य, अच्छा-बुरा, नैतिक-अनैतिक जैसे मानवीय और पाशविक प्रवृत्तियों का ज्ञान होता है। विजयादशमी का त्यौहार असत्य पर सत्य की विजय का संदेश देता है। हमें निष्ठा और पवित्र भावना से इस त्यौहार को मनाना चाहिए धार्मिक दृष्टि से विजयादशमी का पर्व आत्म शुद्धि का पर्व है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जीवन बदल देने वाली प्रेरणा दायक विचार

जितने भी महान लोग हुए है वह कोई अलग कार्य नही करते है, बस वह अपने कार्य को अलग तरीके से करते है, इसलिए उनको सफलता मिलती है। आज ऐसे ही महान लोगो के द्वारा बताए गये (motivational quotes) मोटिवेशनल कोट्स आप सभी के साथ शेयर कर रहे है।कोई भी लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपको सिर्फ दो चीजें चाहिए पहला तो दृढ़ संकल्प और दूसरा कभी न टूटने वाला हौसला। लेकिन संघर्ष के रास्ते में जब आपका हौसला कमजोर पड़ने लगे तो उस समय आपको ऐसी जरूरत होती है जो की आपको एक बार फिर से उठकर खड़े होने की प्रेरणा दे। इसलिए आज हम आपको ऐसी ही सफल और महान लोगे के द्वारा दिए गए सफलता के कुछ ऐसे मंत्र को बताने वाले है । जिन्हें आप अपने मुश्किल समय में अपनी ताकत बना कर खुद को आगे बढने के लिए प्रेरित कर सकते है। प्रेरणा देने वाले विचार ।। prernadayak vichar ।। prernadayak status ।। prernadayak suvichar ।। hindi status for life  “ कामयाब होने के लोए निरंतर सीखते रहे। सिखने से ही आप अपनी क्षमताओं को पहचान सकते है।” “ ख़ुशी के लिए काम करोगे तो ख़ुशी नही मिलेगी लेकिन खुश होकर काम करोगे तो ख़ुशी जरूर मिलेगी।” “ संकल्प मनुष्य क

सभी को हंसाने वाली मजेदार हास्य कविता - kavita hasya in hindi

जीवन में खुश रहना बहुत जरूरी है, जब हम खुश रहते हैं तो हम फ्री माइंड से किसी भी कार्य को करते हैं। वही जब हम दुखी रहते हैं तो हम किसी भी कार्य को अधूरे मन से करते हैं। इसलिए किसी ने कहा है कि, खुशी के लिए काम करोगे तो खुशी नहीं मिलेगी, “लेकिन खुश होकर काम करोगे तो खुशी जरूर मिलेगी”  अब बात आती हैं की खुश कैसे रहे, खुश रहने के लिए आप हास्य कविता funny poem या funny quotes पढ़ सकते हैं। जिससे आप हमेशा खुश रह सकते हैं। इसलिए आज हम आपके लिए खुश करने वाली कुछ हास्य कविता आपके साथ शेयर कर रहे हैं। hasya kavita।। Hasya kavita in hindi for students ।। hasya kavita hindi  hindi hasya kavita ।। hasya kavita for kids ।। Comedy poem in hindi जय बाबा ज्ञान गुर सागर मम्मी हंसती रोते फादर। योगी बाबा जोगी दूर करो पैसे की तंगी। लंकेश्वर भए सब कुछ जाना घुस खोरों से हमे बचाना। भूत पिशाच समीप नहीं आवै पिक्चर की तब बात सुनावै। सब सुख लहै तुम्हारी सरना, मार-पीट से कभी न डरना। सुबह सवेरे ही यह आये भोंपू-भोपू शोर मचाये। जब आप कहे तब सब लोक उजागर रसगुल्ले से भर दो सागर। बाबा अतुलित बल थामा पंक्चर बनाये सब नेता

लघु साहसिक कहानियाँ हिंदी में - Short adventure stories in hindi

  Hindi Short Adventure Stories of Class 7 ।।  Sahas kahani in hindi नमस्कार मित्रो स्वागत है हमारे ब्लॉग पर आज हम आपके लिए लघु साहसिक कहानी लेकर आए हैं। जिसे पढ़ने से आपमें एक सकारातमक ऊर्जा का संचार होगा। मित्रो हम सभी के जीवन में कुछ न कुछ परेशानियाँ आती हैं। लेकिन उस समस्या के समय जो लोग धैर्य से काम करते हैं। वहीं लोग जीवन में आगे बढ़ते हैं। श्रुति की समझदारी प्रेरणा दायक कहानी  best short story in hindi श्रुति एक पुलिस अधिकारी की बेटी थी। वह पढ़ने में काफी तेज थी तथा कक्षा में हमेशा प्रथम आती थी। उसके पिता सरकारी आवास न मिलने के कारण शहर के छोर पर किराए के मकान में रहते थे। वहीं पास में झुग्गी बस्ती थी जहां बहुत से गरीब परिवार रहते थे। वे सब मेहनत मजदूरी करके अपना जीवन यापन करते थे। इसी झुग्गी की एक महिला श्रुति के घर में काम करने आती थी। उसकी दस साल की एक लड़की थी जिसका नाम अंजू था। अंजू अक्सर अपनी मां के साथ श्रुति के घर पर आती थी। अंजू श्रुति के घर उसके साथ खेलती थी। इसलिए अंजू, श्रुति की सहेली बन गई थी। एक दिन श्रुति ने अंजू के स्कूल न जाने का कारण पूछा तो अंजू ने बताया की गर