सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आपकी कीमत यह प्रेरणा दायक कहानी जरूर पढ़ें - Best motivational story in hindi for every person

 


Best motivational story in hindi for students ।। Best motivational story in hindi for IAS ।। Hindi motivational story for every one

नमस्ते दोस्तो स्वागत है हमारे ब्लॉग पर आज हम आपके लिए एक ऐसी प्रेरणा दायक कहानी लेकर आए हैं, जिसे पढ़ने से आपके अंदर हमेशा सकारात्मक ऊर्जा का विकास होगा। दोस्तो हम सभी लोगो के पास एक असीम ऊर्जा होती हैं। बस जरूरत है, तो उसका सही इस्तेमाल करना। तो दोस्तो इसी से सम्बन्धी एक प्रेरणा दायक कहानी आप सभी के साथ शेयर कर रहे हैं।


तुम्हारी यही कीमत है - motivational story in hindi

बहुत समय पहले एक गांव में सुरेश नाम का एक आदमी रहता था। सुरेश बहुत गरीब था, वह एक सेठ के यहां काम करता था। जो उसे बहुत कम मेहनताना देता था। जब भी सुरेश सेठ से मेहनताना बढ़ाने के लिए कहता, तो उससे सेठ बोलता तुम इतने पैसे में ही खुश रहो, तुम्हारी यही कीमत है। इस बात से सुरेश बहुत दुखी रहता था।
एक दिन वह दुखी मन से अपने घर की ओर जा रहा था। तभी उसे एक वृक्ष के नीचे ज्ञानी महात्मा ध्यान में बैठे दिखे। सुरेश चुपचाप उस महात्मा के पास जाकर बैठ गया। महात्मा को जब उसकी उपस्थिति महसूस हुई तो, उन्होंने आंखें खोली और सुरेश से पूछा? 
हे सज्जन तुम कौन हो? और यहां कैसे आए, सुरेश बोलता है। महात्मा मेरा नाम सुरेश है, मैं आपसे कुछ जानना चाहता हूं। महात्मा बोले पूछो तुम क्या जाना चाहती हो? सुरेश बोला, हे महात्मा मैं आपसे अपनी कीमत के बारे में जानना चाहता हूं। कि इस संसार में मेरी कीमत क्या है। सुरेश की बात सुनकर महात्मा मुस्कुराने लगे, फिर उन्होंने दाहिना हाथ बढ़ाते हुए आंखें बंद करके ध्यान लगाया। अचानक से उनके हाथ में एक बहुत कीमती पत्थर आ गया। महात्मा ने आंखें खोली और उस पत्थर को सुरेश को देते हुए बोले, यह लो और इस पत्थर की कीमत का पता लगाकर आओ बस याद रहे कि, इसे तुम्हें बेचना नहीं है।

सुरेश वह पत्थर लेकर सबसे पहले एक आम की दुकान के पास गया। और वह उस पत्थर को दिखाते हुए कहने लगा, सुनो भाई तुम मुझे इस पत्थर के बदले क्या कीमत दे सकते हो, आम वाले ने उस पत्थर को देखकर बोला, मैं तुम्हें इसके बदले दस आम दे सकता हूं। सुरेश ने सोचते हुए आम वाले से पत्थर लेकर आगे चला गया।
फिर उसे एक आलू बेचने वाला मिला। उसने आलू वाले को पत्थर दिखाते हुए बोला, तुम मुझे इस पत्थर के बदले क्या कीमत दे सकते हो। आलू वाले ने उस पत्थर को देखकर बोला मैं तुम्हें इसके बदले दो किलो आलू दे सकता हूं। सुरेश यह सुनकर थोड़ा हैरान हुआ, और पत्थर लेकर आगे बढ़ गया।

कुछ दूर जाने के बाद उसे एक सोना बेचने वाले सुनार का दुकान दिखा। वह सोनार के दुकान में गया, उसने जैसे ही पत्थर सोनार की ओर बढ़ाया सुनार की आंखें जगमगा गई।
उसने तुरंत ही पत्थर को अपने हाथ में लिया। और सुरेश से पूछने लगा तुम्हें यह पत्थर कहां से मिला। सुरेश बोला मुझे एक महात्मा ने दिए हैं। आप मुझे इसकी क्या कीमत दे सकते हैं।
सुनार बोला मैं तुम्हें इसके पचास हजार रुपए दे सकता हूं।
सुरेश यह सुनकर बहुत हैरान हुआ। और सोचने लगा, कहां मुझे आमवाला इस पत्थर के दस आम और आलू वाला सिर्फ दो किलो आलू दे रहा था। और कहा मुझे यह सुनार वाला पूरे पचास हजार देने को तैयार है।
फिर सुनार बोला क्या सोचने लगे। क्या तुम्हारे लिए 
पचास हजार कम है। तो मैं इसके तुम्हें सत्तर हजार देने को तैयार हूं। सुनार की बात सुनकर सुरेश घबरा गया। और बोला नहीं महात्मा ने इसे बेचने से मना किए हैं। यह कहकर सुरेश ने सोनार से पत्थर वापस ले लिया, और वहां से चला गया।

सुरेश वापस महात्मा के पास जा ही रहा था कि, तभी उसे एक हीरे के व्यापारी की दुकान दिखाई दिया। और वह सोचने लगा अब तक जितने लोगों को यह पत्थर दिखाया सबने इसके अलग-अलग दाम बताएं हैं। एक बार इस हीरे वाले को दिखाता हूं, देखता हूं यह क्या कहता है।
ऐसा सोचकर सुरेश हीरे वाले की दुकान में गया। जैसे ही सुरेश जौहरी को यह पत्थर दिखाया, जौहरी तुरंत ही खड़ा हो गया। उसने एक लाल रुमाल टेबल पर बिछाकर उस पत्थर को रखकर सिर झुकाने लगा। सुरेश ने यह देखा तो वह बहुत हैरान हुआ। सुरेश ने जौहरी से पूछा, आप इस पत्थर के सामने सिर क्यों झुका रहे हैं। सुरेश के जवाब पर जौहरी बोला, यह पत्थर नहीं रूबी है। अगर सारी दुनिया को भी बेच दी जाए तो भी इसकी कीमत नहीं लगाई जा सकती, रूबी अनमोल है।
यह सुनकर सुरेश हैरान परेशान हो गया। 
वह जौहरी से अनमोल रत्न लेकर सीधा महात्मा के पास गया। वहां पहुंचकर महात्मा को सारी आपबीती सुनाई और कहने लगा। महात्मा मैंने आपसे अपना मूल्य पूछा था। और आपने रूबी देकर उसका मूल्य पूछने को कहा कृपया अब आप इस रहस्य से पर्दा उठाया।
इस पर महात्मा बोले आम वाले ने इस रूबी की कीमत दस आम लगाई। वहीं आलू वाले ने दो किलो आलू। सोनार ने पचास हजार तो वही जौहरी ने इसे अनमोल रत्न बताया।
ऐसे ही मानवीय मूल्य का भी है। बेशक तुम रूबी के समान अनमोल हो पर सामने वाला तुम्हारी कीमत अपनी हैसियत और औकात के हिसाब से ही लगाएगा।
इसलिए कभी भी अपनी कीमत के बारे में मत पूछना और कोई तुम्हें बताएं तो ध्यान मत देना। 
सुरेश समझ गया कि वह इस अनमोल रत्न के समान अनमोल है। फिर वह किसी से भी अपनी किस्मत के बारे में नहीं पूछा।

सीख - इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हम सभी अनमोल है हमें हमेशा अपनी इज्जत करनी चाहिए।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भगवान गौतम बुद्ध को आत्मज्ञान की प्राप्ति कैसे हुई - वैशाख पूर्णिमा और बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति

सिद्धार्थ जब कपिलवस्तु की सैर पर निकले तो उन्होंने चार दृश्यों को देखा उन्होंने सबसे पहले एक बूढ़े व्यक्ति को देखा तो उन्होंने अपने सारथी से पूछा की यह कौन है। तब सारथी ने कहाँ की यह एक बूढ़ा व्यक्ति है तब सिद्धार्थ ने पूछा की यह बूढ़ा व्यक्ति क्या होता है तो उनके सारथी ने कहा कि एक दिन सभी को बुढ़ा होना है। तब सिद्धार्थ ने पूछा की मैं भी बूढा हो जाऊंगा? तो सारथी ने कहा  हा एक दिन आप भी इनके जैसा हो जायेंगे। फिर सिद्धार्थ और आगे बढे तो उन्होंने एक बीमार व्यक्ति को देखा तो सिद्धार्थ ने फिर सारथी से पूछा की यह कौन है। तब वह सारथी बोला यह एक बीमार व्यक्ति है, यह किसी को हो सकता है।  इसके बाद वह और आगे बढे तो सिद्धार्थ ने एक शव को देखा फिर वह सारथी से पूछते है कि यह क्या है, तब सारथी बोला यह सब एक मृत व्यक्ति को लेकर जा रहे है इस संसार में जो जन्मा है उसको एक दिन मृत्यु को प्राप्त होना ही है। फिर वह अंत में एक सन्यासी को देखा फिर वह सारथी से पूछते है तब वह सारथी बोला की यह एक सन्यासी है यह अपना घर, परिवार और सारी सम्पति का त्याग कर साधु बनकर भगवान की पूजा करता है। यह सब देखने के बाद वह बह

जैसा आप सोचते है, आप वैसे ही बन जाते है भगवान बुद्ध की प्रेरणा दायक कहानी - Best Gautam Buddha stories in hindi for life

  Story of Gautam Buddha in hindi ।। Gautam Buddha story in hindi ।। Gautam Buddha life story in hindi ।। Siddharth Gautam Buddha story in hindi एक बार गौतम  बुद्ध और उनके शिष्य एक वन से गुजर रहे होते है। बहुत दूर चलने के बाद भगवान बुद्ध के शिष्य बुद्ध से कहते है, बुद्ध क्या हम कुछ देर विश्राम कर सकते है। बुद्ध कहते है, अवश्य अब हमे विश्राम करना चाहिए, ओ देखो एक बड़ा वृक्ष है। हम उसके नीचे विश्राम करेंगे। बुद्ध और उनके सभी शिष्य उस वृक्ष के नीचे बैठ जाते है। उनमें से एक शिष्य ने बुद्ध कहता है, बुद्ध आपने हमसे एक बात कही थी कि! हम जैसा सोचते है हम वैसा ही बन जाते है। कृपा करके इस कथन को विस्तार से समझाइए, बुद्ध कहते है अवश्य, मै तुम्हे एक छोटी सी कहानी सुनाता हूं। एक नगर में एक बहुत धनी सेठ रहता था। उसके पास धन की कोई कमी नहीं थी। परन्तु फिर भी हर समय धन इकट्ठा करने के बारे में सोचता रहता था। एक बार सेठ के घर उसका एक रिश्तेदार आता है। सेठ उसकी खूब खातेदारी करता है। बातों-बातों में सेठ का रिश्तेदार सेठ से कहता है, अरे सेठ जी हमारे नगर में एक नामी गिरामी सेठ रहता था। वह आप से ज्यादा धनवान