सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जीवन में सफलता पाना है तो अपने दिल की सुनो - secret of success motivational story in hindi for every one

 

Saflta pane ka rahshy


जीवन में सफलता कैसे पाएं - best motivational story in hindi for students, best success motivational story in hindi for students, some inspirational stories in hindi for students


Motivational story - अगर जीवन में सफल होना है तो बस अपने दिल की सुनो। एक लक्ष्य निर्धारित करो और पूरा फोकस अपने लक्ष्य पर लगा दो, यह मत ध्यान दो की लोग क्या कहेंगे । क्योकि यह मायने नही रखता की लोग क्या सोचेंगे। लेकिन यह ज्यादा मायने रखता है कि आप अपने बारे में क्या सोचते है। इसलिए आप जो अपना लक्ष्य निर्धारित किये है। बस उसी पर ध्यान दे और बाकि सब भूल जाये। इसी से सम्बंधित एक प्रेरक प्रसंग आप सभी के साथ शेयर कर रहा हूं।


एक बार कुछ युवकों के समूह में सबसे पहले पहाड़ पर  चढ़ने की शर्त लगी। सभी युवको ने पहाङ पर चड़ना आरम्भ किया , लेकिन उनमें से तो कुछ युवक पहाड़ पर थोङी ऊपर चढ़ते ही फिसलने लगे वह डर की वजह से आशा छोङकर वापस नीचे उतर आये और उनमें से कुछ ने तो साहस करके पहाड़ केे मध्य भाग तक तो पहुच गये लेकिन पहाड़  काफी ऊंचा था इसलिए उनमे से जो लोग बीच तक चढ़े थे डर कि वजह से वापस नीचे उतर आतेे है।

लेकिन उनमें से एक युवक ने आशा नही छोङा वह बिना डरे पहाड़ पर चढ़ता जा रहा था। उस युवक को उनके सभी साथी ने पहाड़ पर और ऊपर चढ़ने से रोकने लगे और कहने लगे की पहाड़ बहुत ऊँचा है, और ऊपर मत चढ़ नही तो गिरेगा तो बचेगा नही। लेकिन वह युवक चढ़ता गया और अंत में पहाड़ के चोटी पर पहुच गया। क्या आप जानते है कि वह युवक पहाड़ के ऊपरी चोटी पर क्यों चढ़ पाया। क्योंकि वह युवक कानो से बहरा था। जब वह पहाड़ पर अकेला चढ़ा जा रहा था। तब उसके सभी दोस्त उसको पहाड़ पर और ऊपर चढ़ने से मना कर रहे थे। तब उसको लगा की वह सब उसका उत्साह बढ़ा रहे है। और कह रहे है, कि तू पहाड़ की चोटी पर चढ़ सकता है, तू ही यह कार्य कर सकता है। इसलिए ही वह पहाड़ की चोटी पर वह अकेेेले चढ़ सका।

अगर आपको जीवन में सफलता पानी है तो कानो से बहरे बनो कौन क्या कहता है, यह मत ध्यान दो ,बस अपने लक्ष्य पर ध्यान दे।



जीवन में आत्म विश्वास का महत्व - Self confidence motivational story in hindi


जीवन में किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए आत्म विश्वास बेहद जरुरी है आत्मविश्वास के कारण ही महान कार्यो को करना संभव हो पाता है जीवन में आत्मविश्वास को लेकर एक रोचक कहानी आप सभी के साथ शेयर कर रहा हूं।

एक समय की बात है एक व्यापारी बहुत कर्ज में डूबा था वह निरास मन से एक पार्क में बैठा था और खुद को कोस रहा था। तभी वहां एक बुजुर्ग व्यक्ति आया और उसने उस व्यापारी के उसके निराश होने का कारण पूछा कारण ज्ञात होने पर वह बृद्ध व्यक्ति उस व्यापारी के नाम से चेक बनाते हुए कहा आप इस पैसे को लेकर अपने कारोबार को फिर से करो और एक वर्ष बाद तुम यह पैसा पुनः मुछे चेक के द्वारा लौटा देना बृद्ध व्यक्ति के  जाने के बाद व्यापारी ने देख की वह चेक 1 लाख रूपए का है, और उस नगर के बड़े व्यापारी के हस्ताक्षर के साथ है।

वह व्यापारी चेक पाकर अत्यंत प्रसन्न हुआ। और घर पर आने के पश्चात् वह अपने पुराने कारोबार को पुनः नए आत्मविश्वास के साथ प्रारम्भ किया। तथा उसके मन में पुराना डर एंव भ्रम दूर हो गया कि मेरी पूँजी डुब जायेगी। क्योकि मेरे पास एक चेक मौजूद है । मैं इसे जब चाहूंगा तब इसका इस्तेमाल कर सकूँगा इसलिए वह अपने पुराने पैसो से ही अपना कारोबार आगे बड़ाने लगा 1 वर्ष के अंत में उसे प्रयाप्त लाभ मिला जिससे वह अपने पुराने कर्ज को चूका कर लाभ में हो गया एक दिन अलमारी में रखे उस पुराने चेक को देखकर उसे 1वर्ष पूर्व की घटना याद आ गयी।

अगले दिन उसने चेक को लौटाने का निर्णय किया। वह व्यापारी फिर उसी पार्क में आया और देखा कि वह वृद्ध व्यक्ति वही टहल रहा है। व्यापारी ने वृद्ध व्यक्ति से मिलकर उसे धन्यवाद देते  हुए चेक लौटाने लगा की उसी समय एक वृद्ध औरत उन दोनों के पास आकर व्यापारी से बोली भाई साहब इन्हें माफ कीजिए इनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है, ये अपने को शहर के सबसे बड़े व्यापारी प्रदर्शित करते है ये सबको फर्जी चेक देकर उन पर रौब जमाते है कही आप के साथ ऐसा धोखा तो नही हुआ।

यह सब सुनकर व्यापारी सन्न रह गया क्योंकि उसे जब मालूम हुआ की 1 वर्ष पूर्व दिया गया चेक फर्जी था। लेकिन उसे आश्चर्य भी हुआ की इस फर्जी चेक के सहारे ही हमारे अंदर आत्मविश्वास की जागृति हुई और हम जीवन में सफल हुए इस प्रकार उसे समझ में आया की उसने जो कामयाबी हासिल की इसकी वजह वह चेक नहीं था। यह तो वह आत्मविश्वास था जिसने उसे दोबारा व्यापार चलने की ताकत दी इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी परिस्थिति में अपने आत्म विश्वास को नही खोना चाहिए ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

स्वामी विवेकानंद के सफलता के 10 सूत्र- success mantra in hindi by swami vivekanand

Swami Vivekananda Anmol vachan in hindi स्वामी विवेकानंद जी के (swami vivekanand) प्रेरणा दायक विचार (motivational thought) आज प्रत्येक युवाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत है ।  स्वामी विवेकानंद जी के विचार और उनकी दी हुई शिक्षाओं के बारे में पढ़कर उन्हें अपने जीवन में फॉलो करते है , तो हमे सफलता प्राप्त करना अधिक आसान हो जायेगा। ऐसी ही स्वामी विवेकानंद जी के द्वारा बताये गये 10 सफलता के सूत्र आप सब के साथ शेयर कर रहे है जिसे पढ़कर आप में असीम ऊर्जा आयेगी जिससे आप अपने लक्ष्य को आसानी से हासिल कर सकते है।    (1) लक्ष्य पर डटे रहो।    (2) चूनौतियो का सामना करो।    (3) शक्तिशाली बनो कमजोर नही।    (4) गलतियों से सीखो ।    (5) मन को उदार बनाओ।    (6) कर्म करो आलस्य त्यागो।    (7) ध्येय के प्रति पूर्ण एकाग्र रहो।    (8) आत्म विश्वास बनाये रहो।    (9) दुसरो को दोषी मत दो।    (10) किसी को कष्ट मत दो। दोस्तो अगर आपको यह स्वामी विवेकानंद जी के प्रेरणा दायक विचार आपको पसंद आया हो तो कमेंट जरूर करे और शेयर करना ना भूले जिससे कि स्वामी विवेकानंद जी के प्रेरणा दायक और लोगो तक पहुंच स

जीवन बदल देने वाली प्रेरणा दायक विचार

जितने भी महान लोग हुए है वह कोई अलग कार्य नही करते है, बस वह अपने कार्य को अलग तरीके से करते है, इसलिए उनको सफलता मिलती है। आज ऐसे ही महान लोगो के द्वारा बताए गये (motivational quotes) मोटिवेशनल कोट्स आप सभी के साथ शेयर कर रहे है।कोई भी लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपको सिर्फ दो चीजें चाहिए पहला तो दृढ़ संकल्प और दूसरा कभी न टूटने वाला हौसला। लेकिन संघर्ष के रास्ते में जब आपका हौसला कमजोर पड़ने लगे तो उस समय आपको ऐसी जरूरत होती है जो की आपको एक बार फिर से उठकर खड़े होने की प्रेरणा दे। इसलिए आज हम आपको ऐसी ही सफल और महान लोगे के द्वारा दिए गए सफलता के कुछ ऐसे मंत्र को बताने वाले है । जिन्हें आप अपने मुश्किल समय में अपनी ताकत बना कर खुद को आगे बढने के लिए प्रेरित कर सकते है। Motivational quotes in hindi।। Motivational status in hindi।। Hindi motivational quotes।। Best motivational quotes in hindi for every one “ कामयाब होने के लोए निरंतर सीखते रहे। सिखने से ही आप अपनी क्षमताओं को पहचान सकते है।” “ संकल्प मनुष्य को असीमित ऊर्जा प्रदान करता है, जिससे स्वार्थहीन मनुष्य देवता बन जाता है।”

भगवान गौतम बुद्ध को आत्मज्ञान की प्राप्ति कैसे हुई - वैशाख पूर्णिमा और बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति

सिद्धार्थ जब कपिलवस्तु की सैर पर निकले तो उन्होंने चार दृश्यों को देखा उन्होंने सबसे पहले एक बूढ़े व्यक्ति को देखा तो उन्होंने अपने सारथी से पूछा की यह कौन है। तब सारथी ने कहाँ की यह एक बूढ़ा व्यक्ति है तब सिद्धार्थ ने पूछा की यह बूढ़ा व्यक्ति क्या होता है तो उनके सारथी ने कहा कि एक दिन सभी को बुढ़ा होना है। तब सिद्धार्थ ने पूछा की मैं भी बूढा हो जाऊंगा? तो सारथी ने कहा  हा एक दिन आप भी इनके जैसा हो जायेंगे। फिर सिद्धार्थ और आगे बढे तो उन्होंने एक बीमार व्यक्ति को देखा तो सिद्धार्थ ने फिर सारथी से पूछा की यह कौन है। तब वह सारथी बोला यह एक बीमार व्यक्ति है, यह किसी को हो सकता है।  इसके बाद वह और आगे बढे तो सिद्धार्थ ने एक शव को देखा फिर वह सारथी से पूछते है कि यह क्या है, तब सारथी बोला यह सब एक मृत व्यक्ति को लेकर जा रहे है इस संसार में जो जन्मा है उसको एक दिन मृत्यु को प्राप्त होना ही है। फिर वह अंत में एक सन्यासी को देखा फिर वह सारथी से पूछते है तब वह सारथी बोला की यह एक सन्यासी है यह अपना घर, परिवार और सारी सम्पति का त्याग कर साधु बनकर भगवान की पूजा करता है। यह सब देखने के बाद वह बह