सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हिंदी में बेटी के महत्व पर एक कविता - A poem on the importance of daughter in Hindi

 


A sad poem on daughters in hindi ।। Hindi poem on daughters


नमस्ते दोस्तों स्वागत है हमारे ब्लॉग पर आज हम आपके लिए बेटी पर एक कविता लेकर आए हैं। दोस्तो हमारे समाज की सबसे बड़ी समस्या यह है की लोग बेटे और बेटी को अलग नजरिए से देखते हैं। बेटी को कमजोर मानते हैं। जबकि वास्तव में ऐसा नहीं है। बेटी तो असीम ऊर्जा से भरी होती हैं। और कोमल ह्रदय के समान होती हैं। हम सायद भूल जाते हैं कि बेटी ही आगे जाकर एक मां बनती हैं। और सब लोग यह तो जानते ही हैं कि मां का ह्रदय कितना कोमल होता है। दोस्तो इस समाज को जितना बेटे की आश्यकता है, उतना ही बेटी का भी आश्यकता है।

बेटी एक ऐसा शब्द जिसे सब जानते है पर मेरी नज़र में क्या है। मैं आपको इस कविता के माध्यम से बताना चाहता हूं।


बेटे की चाहत में जन्म लेती है बेटियां,

 त्योहार सी उमंग जगाती है बेटियां।

 खाद-पानी उर्जा बेटे को है पर,

 बंजर पर लहलहाती है बेटियां।

 बेटे की चाहत में जन्म लेती हैं बेटियां”।


सुबह उठने को ठेले जाते हैं बेटे पर,

 चाय के साथ रोज जगाती है बेटियां।

 खेल सिखाते हैं जिंदगी भर बेटे को पर, 

अपने विश्वास से हिमालय पर चल जाती है बेटियां।

 बेटे की चाहत में जन्म लेती हैं बेटियां।


मां-बाप के दुख का असर नहीं है बेटे पर,

 थोड़ी सी चोट पर छटपटाती है बेटियां।

 बेटे के कटु शब्द तीर की तरह लगते हैं पर,

 अपने प्यार से इन्हें भर देती हैं बेटियां।

 बेटे की चाहत में जन्म लेती हैं बेटियां।


चाहते हैं लोग कुछ खास बने हमारे बेटे पर,

 प्रदेश और देश को आगे बढ़ाती है बेटियां।

 हर चीज से अवगत कराये जाते हैं बेटे पर,

 तारों को भी पहले छू आती है बेटियां।

बेटे की चाहत में जन्म लेती है बेटियां।


अगर न करता कोई भेद बेटे और बेटी में,

 तो शायद जलाई ना जाती ये बेटियां।

 “बेटे की चाहत में जन्म लेती है बेटियां,

 त्यौहारों सी उमंग जगाती है बेटियां।

 “बेटे की चाहत में जन्म लेती है बेटियां”।


दोस्तो आशा करता हूं कि यह प्रेरणा दायक कविता आपको पसंद आया होगा। दोस्तो इस कविता को अधिक से अधिक लोगों को शेयर जरूर करें। धन्यवाद! 


 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भगवान गौतम बुद्ध को आत्मज्ञान की प्राप्ति कैसे हुई - वैशाख पूर्णिमा और बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति

सिद्धार्थ जब कपिलवस्तु की सैर पर निकले तो उन्होंने चार दृश्यों को देखा उन्होंने सबसे पहले एक बूढ़े व्यक्ति को देखा तो उन्होंने अपने सारथी से पूछा की यह कौन है। तब सारथी ने कहाँ की यह एक बूढ़ा व्यक्ति है तब सिद्धार्थ ने पूछा की यह बूढ़ा व्यक्ति क्या होता है तो उनके सारथी ने कहा कि एक दिन सभी को बुढ़ा होना है। तब सिद्धार्थ ने पूछा की मैं भी बूढा हो जाऊंगा? तो सारथी ने कहा  हा एक दिन आप भी इनके जैसा हो जायेंगे। फिर सिद्धार्थ और आगे बढे तो उन्होंने एक बीमार व्यक्ति को देखा तो सिद्धार्थ ने फिर सारथी से पूछा की यह कौन है। तब वह सारथी बोला यह एक बीमार व्यक्ति है, यह किसी को हो सकता है।  इसके बाद वह और आगे बढे तो सिद्धार्थ ने एक शव को देखा फिर वह सारथी से पूछते है कि यह क्या है, तब सारथी बोला यह सब एक मृत व्यक्ति को लेकर जा रहे है इस संसार में जो जन्मा है उसको एक दिन मृत्यु को प्राप्त होना ही है। फिर वह अंत में एक सन्यासी को देखा फिर वह सारथी से पूछते है तब वह सारथी बोला की यह एक सन्यासी है यह अपना घर, परिवार और सारी सम्पति का त्याग कर साधु बनकर भगवान की पूजा करता है। यह सब देखने के बाद वह बह

जैसा आप सोचते है, आप वैसे ही बन जाते है भगवान बुद्ध की प्रेरणा दायक कहानी - Best Gautam Buddha stories in hindi for life

  Story of Gautam Buddha in hindi ।। Gautam Buddha story in hindi ।। Gautam Buddha life story in hindi ।। Siddharth Gautam Buddha story in hindi एक बार गौतम  बुद्ध और उनके शिष्य एक वन से गुजर रहे होते है। बहुत दूर चलने के बाद भगवान बुद्ध के शिष्य बुद्ध से कहते है, बुद्ध क्या हम कुछ देर विश्राम कर सकते है। बुद्ध कहते है, अवश्य अब हमे विश्राम करना चाहिए, ओ देखो एक बड़ा वृक्ष है। हम उसके नीचे विश्राम करेंगे। बुद्ध और उनके सभी शिष्य उस वृक्ष के नीचे बैठ जाते है। उनमें से एक शिष्य ने बुद्ध कहता है, बुद्ध आपने हमसे एक बात कही थी कि! हम जैसा सोचते है हम वैसा ही बन जाते है। कृपा करके इस कथन को विस्तार से समझाइए, बुद्ध कहते है अवश्य, मै तुम्हे एक छोटी सी कहानी सुनाता हूं। एक नगर में एक बहुत धनी सेठ रहता था। उसके पास धन की कोई कमी नहीं थी। परन्तु फिर भी हर समय धन इकट्ठा करने के बारे में सोचता रहता था। एक बार सेठ के घर उसका एक रिश्तेदार आता है। सेठ उसकी खूब खातेदारी करता है। बातों-बातों में सेठ का रिश्तेदार सेठ से कहता है, अरे सेठ जी हमारे नगर में एक नामी गिरामी सेठ रहता था। वह आप से ज्यादा धनवान