सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

akbar birbal stories in hindi with akbar birbal kahani। अकबर बीरबल की मजेदार कहानी



Akbar Birbal stories name with their morals in Hindi ।। Short story for akhabar and birabal ।। Akhabar and birabal ki kahaniya


Short story नमस्ते दोस्तो स्वागत है हमारे ब्लॉग पर आज हम आपके लिए अखबर और बीरबल की मजेदार और प्रेरणा दायक कहानी आप सभी के साथ शेयर कर रहे हैं। कहानी पढ़ने से बच्चो में बौधिक क्षमता का विकास होता है। जिससे बच्चों में समाजिक ज्ञान बढ़ता है। 


गई इज्जत वापस नहीं आती - akhabar and birabal motivational story in hindi

अकबर को इत्र का बहुत शौक था। वह देश-विदेश से अपने लिए कीमती इत्र मंगवाता रहता था। एक दिन बादशाह की वर्षगांठ थी। महल के बगीचे में विशाल मंडल बनाया गया था। उसमें मखमल के गद्दी-तकिये लगाए गए थे। उन पर बादशाह अकबर के दरबारी और मेहमान बैठे हुए थे। एक के बाद एक मेहमान आते अकबर को भेंट देते और मंडप में अपनी जगह बैठ जाते।
अकबर का एक दरबारी मेहमानों को पान-सुपारी और इत्र का फाहा दे रहा था। अकबर के पास बैठे हुए एक मेहमान को इत्र का फाहा देते समय इत्र की एक बूंद गड्डी पर गिर गई। अकबर ने उसे देखा। तुरंत ही उसने एक उंगली से इत्र की बूंद लेने का प्रयत्न किया, लेकिन व्यर्थ बूंद गद्दी की रूई में गहराई तक उतर चुकी थी।
पास बैठा बीरबल यह देख रहा था। अकबर कि नजर उस पर पड़ी, तो वह शरमा गया। बीरबल ने तुरंत अपना मुंह दूसरी ओर फेर लिया, जैसे उसने कुछ देखा ही नहीं। लेकिन अकबर के मन से यह बात नहीं निकली। पूरी रात अकबर को नींद नहीं आई। उसके मन में तरह-तरह के विचार आते रहे बीरबल मेरे विषय में क्या सोचता होगा? अरे मैंने भी यह क्या किया, इत्र की एक बूंद पर अपनी नियत बिगाड़ दी! वह किसी से कह देगा तो? लोग कहेंगे, इतना बड़ा बादशाह और इतना कंजूस अब मैं बीरबल को दिखा दूंगा कि मेरे मन में इत्र की कोई कीमत नहीं है। उसे भी मालूम हो कि कीमती से कीमती इत्र गिर जाए, तो भी मैं उसकी परवाह नहीं करता।
दूसरे ही दिन अकबर ने महल के हौज को खाली कराया। उसके पास इत्र की जितनी शीशियां थी, उसने सारी हौज में उड़ेल (डाल) दी। फिर शहर में ढिंढोरा पिटवा दिया, जिसे भी इत्र चाहिए, वह बादशाह के हौज में से ले जाए।
लोगों ने झुंड के झुंड महल के हौज के पास इकट्ठे हो गए। हौज के पास अकबर अभिमान से सीना तानकर खड़ा था। उसने सोचा अब बीरबल को मालूम होगा कि बादशाह अकबर के लिए इत्र की कोई कीमत नहीं है।
थोड़ी देर बाद बीरबल वहां आ पहुंचा। उसे देखकर अकबर ने गर्व से कहा, कहो बीरबल! मजे में तो हो? इधर देखो। कितने सारे लोग यहां इत्र लेने आए हैं। बीरबल ने शांतिपूर्वक जवाब दिया, जहांपनाह, बूंद से गई प्रतिष्ठा हौज से नहीं लौटटी!
इत्र की एक बूंद के लिए अकबर ने बीरबल के सामने अपनी आबरू को दी। वह आबरू हौज़ भरकर इत्र लुटा देने पर भी वापस नहीं मिली। बीरबल की बात सुनकर अकबर बहुत उदास हो गया। पर बीरबल को अपनी गलती का एहसास हो गया। वह बादशाह की उदारता की प्रशंसा करने लग गया। बादशाह के चेहरे पर मुस्कान खिल गई।


कलमुहा कौन - Akbar and birabal story in hindi

एक दिन सुबह के समय अकबर अपने महल के झरोखे में खड़ा था। उसी समय एक फेरीवाला रास्ते से गुज़रा। फेरीवाले पर बादशाह की नजर पड़ी, तो उसने बादशाह को सलाम किया। फिर वह वहां से आगे बढ़ गया।
अकबर स्नान कर दरबार में जाने के लिए तैयार हुआ, तभी समाचार मिला कि उसकी बेगम का भाई दुर्घटना में घायल हो गया है। दरबार में जाने के बदले वह अब अपने साले को देखने चला गया। लौटते समय महल की सीढ़ियों पर चढ़ते-चढ़ते वह फिसल गया। और उसके पैर में मोच आ गई। पैर में पट्टी बंधवा कर वह दरबार में पहुंचा। उस दिन बीरबल दरबार में नहीं आया, इसलिए कोई काम नहीं हो सका।
उब कर राजा अकबर अपने महल में लौट आया। उसने थोड़ी देर तक आराम करने का विचार किया। उसे ज़रा-सी झपकी आई, तभी बेगम ने उसे भोजन करने के लिए बुलाया। आज भोजन में उसकी रुचि नहीं थी, फिर भी वह भोजन करने बैठा। उसने पहला ग्रास मुंह में डाला ही था कि अचानक कहीं से एक मक्खी उसकी थाली में आ गिरी। खाना छोड़ कर वह खड़ा हो गया। उसका गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। बेगम से इस बात पर उसकी कहा-सुनी हो गई बेगम भी उससे नाराज़ हो गई।
जैसे-तैसे वह दिन पूरा हुआ। शाम को अकबर महल की छत पर गया। छत पर बैठकर अकबर सोचने लगा, आज मेरा पूरा दिन खराब गया। ऐसा तो पहले कभी नहीं हुआ था। आज ही ऐसा क्यों हुआ? इस तरह विचार करते-करते उसे उस फेरीवाले की याद आई। उसने सोचा सुबह के समय मैंने उस कलमुहे फेरी वाले का मुंह देखा था, इसलिए आज मेरा पूरा दिन खराब गया।
दूसरे दिन बादशाह के हुक्म से सिपाही उस फेरीवाले को पकड़कर दरबार में ले आए। बादशाह ने उसे फांसी की सजा सुनाई। सुबह फेरी वाले का मुंह देखने से वह दिनभर किस तरह परेशान रहा, अकबर ने फेरीवाले की उपस्थिति में ही सारा वाकया दरबारियों से कह सुनाया। फेरीवाले ने बीरबल से मिलने की आज्ञा मांगी बादशाह ने उसे आज्ञा दे दी। बीरबल ने उसकी बात सुनकर उसे समझा दिया कि अब उसे क्या करना है।
फांसी के दिन सिपाही फेरी वाले को फांसी के तख्ते के पास ले गए। फांसी देने से पहले जल्लाद ने उससे उसकी अंतिम इच्छा पूछी। उसने कहा, एक दिन सुबह बादशाह ने मेरा मुंह देखा था, इसलिए उन्हें कुछ तकलीफें उठानी पड़ी। लेकिन उसी दिन मैंने उनका मुंह देखा था, इसलिए मुझे आज फांसी पर चढ़ना पड़ रहा है। जल्लाद साहब! आप दरबार में जाकर बादशाह, दरबारी और नगर की जनता को मेरा यह संदेश पहुंचा दे कि अब से सुबह के समय कोई बादशाह का मुंह न देखें। जो भी व्यक्ति  सुबह के समय बादशाह का मुंह देखेगा, उसे मेरी तरफ फासी पर चढ़ना पड़ेगा।
फेरीवाले की यह बात सुनकर जल्लाद चिंता में पड़ गया। कैदी की अंतिम इच्छा पूरी किए बिना उसे फांसी पर नहीं चढ़ाया जा सकता। अतः जल्लाद दरबार में गया। वहां जाकर उसने बादशाह को फेरीवाले का संदेश दिया। बादशाह ने तुरंत फेरी वाले को दरबार में बुलाया।
फेरीवाले को दरबार में लाया गया। बादशाह ने उससे कहा, मैं समझ गया, बीरबल की सलाह से ही तूने इस तरह की समझदारी की बात की है। मुझसे वाकई भूल में तेरे साथ अन्याय हो रहा था। जा, मैं तेरी सजा माफ करता हूं।
बादशाह ने फेरीवाले को पांच सौ मुहरे भेंट में दी। फेरीवाला खुश होकर अपने घर गया। एक निर्दोष फेरीवाले के प्राण बचाने के लिए बादशाह ने बीरबल का बहुत आभार माना।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जीवन बदल देने वाली प्रेरणा दायक विचार

जितने भी महान लोग हुए है वह कोई अलग कार्य नही करते है, बस वह अपने कार्य को अलग तरीके से करते है, इसलिए उनको सफलता मिलती है। आज ऐसे ही महान लोगो के द्वारा बताए गये (motivational quotes) मोटिवेशनल कोट्स आप सभी के साथ शेयर कर रहे है।कोई भी लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपको सिर्फ दो चीजें चाहिए पहला तो दृढ़ संकल्प और दूसरा कभी न टूटने वाला हौसला। लेकिन संघर्ष के रास्ते में जब आपका हौसला कमजोर पड़ने लगे तो उस समय आपको ऐसी जरूरत होती है जो की आपको एक बार फिर से उठकर खड़े होने की प्रेरणा दे। इसलिए आज हम आपको ऐसी ही सफल और महान लोगे के द्वारा दिए गए सफलता के कुछ ऐसे मंत्र को बताने वाले है । जिन्हें आप अपने मुश्किल समय में अपनी ताकत बना कर खुद को आगे बढने के लिए प्रेरित कर सकते है। प्रेरणा देने वाले विचार ।। prernadayak vichar ।। prernadayak status ।। prernadayak suvichar ।। hindi status for life  “ कामयाब होने के लोए निरंतर सीखते रहे। सिखने से ही आप अपनी क्षमताओं को पहचान सकते है।” “ ख़ुशी के लिए काम करोगे तो ख़ुशी नही मिलेगी लेकिन खुश होकर काम करोगे तो ख़ुशी जरूर मिलेगी।” “ संकल्प मनुष्य क

सभी को हंसाने वाली मजेदार हास्य कविता - kavita hasya in hindi

जीवन में खुश रहना बहुत जरूरी है, जब हम खुश रहते हैं तो हम फ्री माइंड से किसी भी कार्य को करते हैं। वही जब हम दुखी रहते हैं तो हम किसी भी कार्य को अधूरे मन से करते हैं। इसलिए किसी ने कहा है कि, खुशी के लिए काम करोगे तो खुशी नहीं मिलेगी, “लेकिन खुश होकर काम करोगे तो खुशी जरूर मिलेगी”  अब बात आती हैं की खुश कैसे रहे, खुश रहने के लिए आप हास्य कविता funny poem या funny quotes पढ़ सकते हैं। जिससे आप हमेशा खुश रह सकते हैं। इसलिए आज हम आपके लिए खुश करने वाली कुछ हास्य कविता आपके साथ शेयर कर रहे हैं। hasya kavita।। Hasya kavita in hindi for students ।। hasya kavita hindi  hindi hasya kavita ।। hasya kavita for kids ।। Comedy poem in hindi जय बाबा ज्ञान गुर सागर मम्मी हंसती रोते फादर। योगी बाबा जोगी दूर करो पैसे की तंगी। लंकेश्वर भए सब कुछ जाना घुस खोरों से हमे बचाना। भूत पिशाच समीप नहीं आवै पिक्चर की तब बात सुनावै। सब सुख लहै तुम्हारी सरना, मार-पीट से कभी न डरना। सुबह सवेरे ही यह आये भोंपू-भोपू शोर मचाये। जब आप कहे तब सब लोक उजागर रसगुल्ले से भर दो सागर। बाबा अतुलित बल थामा पंक्चर बनाये सब नेता

लघु साहसिक कहानियाँ हिंदी में - Short adventure stories in hindi

  Hindi Short Adventure Stories of Class 7 ।।  Sahas kahani in hindi नमस्कार मित्रो स्वागत है हमारे ब्लॉग पर आज हम आपके लिए लघु साहसिक कहानी लेकर आए हैं। जिसे पढ़ने से आपमें एक सकारातमक ऊर्जा का संचार होगा। मित्रो हम सभी के जीवन में कुछ न कुछ परेशानियाँ आती हैं। लेकिन उस समस्या के समय जो लोग धैर्य से काम करते हैं। वहीं लोग जीवन में आगे बढ़ते हैं। श्रुति की समझदारी प्रेरणा दायक कहानी  best short story in hindi श्रुति एक पुलिस अधिकारी की बेटी थी। वह पढ़ने में काफी तेज थी तथा कक्षा में हमेशा प्रथम आती थी। उसके पिता सरकारी आवास न मिलने के कारण शहर के छोर पर किराए के मकान में रहते थे। वहीं पास में झुग्गी बस्ती थी जहां बहुत से गरीब परिवार रहते थे। वे सब मेहनत मजदूरी करके अपना जीवन यापन करते थे। इसी झुग्गी की एक महिला श्रुति के घर में काम करने आती थी। उसकी दस साल की एक लड़की थी जिसका नाम अंजू था। अंजू अक्सर अपनी मां के साथ श्रुति के घर पर आती थी। अंजू श्रुति के घर उसके साथ खेलती थी। इसलिए अंजू, श्रुति की सहेली बन गई थी। एक दिन श्रुति ने अंजू के स्कूल न जाने का कारण पूछा तो अंजू ने बताया की गर