सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ऐसे बनाए खुद को मजबूत - best success tips in hindi for life

 


The secret of success tips in hindi।। Success tips in hindi।। Todayprerna success tips in hindi


Success tips यदि आप अकसर शंकाओं से घिरे रहते है, कोई भी निर्णय लेने में डरते हैं या फिर खुद पर भरोसा नहीं होने के कारण कोई पहल नहीं कर पाते हो तो इसका मतलब आपमें आत्म विश्वास की कमी है, ऐसे में खुद को मजबूत बनाने की जरूरत है। कैसे कोई पल आता है जब खुद का विश्वास डगमगाने लगता है। ऐसे में जरूरत होती हैं, कुछ ऐसे बदलावो की जो आपको अंदर से मजबूत बनाए और आपको अलग पहचान दे। 


1. खुद पर करे विश्वास - कैसी भी स्थिति क्यों न हों, यह विश्वास रखे कि आप उसका सामना कर सकते है। हमेशा ध्यान रखें कि आप खुद के बारे में जितना सोचते है उससे कहीं अधिक काम करने में सक्षम है।

2. करे वही जो सही हो - किसी भी चाल या अच्छाई बुराई से बड़ी बात है कि आप खुद के प्रति ईमानदार रहे, भले ही रास्ता मुश्किल क्यों ना हो हमे जो सही लगे और जो सही हो वही करना चाहिए।

3. बड़ा सोचे - यदि आप बेहतर सोचेंगे तो ही बेहतर करेंगे। क्योंकि इंसान की सोच और कार्य से ही वो जाना जाता है।

4. खुद से हार न माने - जितने मजबूत आपके इरादे होंगे उतनी ही सफलता आपको मिलेगी। मुश्किल स्थितियां आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है। जितना अधिक चुनौतियों का सामना करेंगे उतना ही सबके सामने खुद को मजबूत रख सके। हमे संघर्षों से घबराना नहीं चाहिए।

5. आवाज उठाए - जितना आप सहते हैं। उतना ही आपको सहने के लिए मजबूत किया जाता है, यदि ऐसा कुछ है जो आप सच में कहना या करना चाहते हैं अवश्य आवाज उठाए और उसको सबके सामने लाये।

6. कदम उठाए - जीवन में सफलता उसी को मिलती हैं जो तमाम डर व शंकाओं के बावजूद कदम उठाते है, और विपरीत परिस्थितियों में निर्णय ले पाते हैं, जोखिम या कठिनाइयों के बिना कुछ नहीं किया जा सकता। अपने डर से आगे निकलने की कोशिश करे। क्योंकि - “परिंदों को कौन सिखाता है सफ़र उड़ान का वे खुद ही खोज लेते है बुलंदियां आसमा का।”

दोस्तो अगर यह प्रेरणा दायक motivational tip's आपको पसंद आया हो तो कमेंट जरूर करें और शेयर भी करना ना भूले जिससे कि यह प्रेरणा दायक विचार और लोगो तक पहुंच सके। आपको हमारे ब्लॉग पर ऐसे ही प्रेरणा दायक विचार आपको समय-समय पर मिलती रहेगी धन्यवाद।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भगवान गौतम बुद्ध को आत्मज्ञान की प्राप्ति कैसे हुई - वैशाख पूर्णिमा और बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति

सिद्धार्थ जब कपिलवस्तु की सैर पर निकले तो उन्होंने चार दृश्यों को देखा उन्होंने सबसे पहले एक बूढ़े व्यक्ति को देखा तो उन्होंने अपने सारथी से पूछा की यह कौन है। तब सारथी ने कहाँ की यह एक बूढ़ा व्यक्ति है तब सिद्धार्थ ने पूछा की यह बूढ़ा व्यक्ति क्या होता है तो उनके सारथी ने कहा कि एक दिन सभी को बुढ़ा होना है। तब सिद्धार्थ ने पूछा की मैं भी बूढा हो जाऊंगा? तो सारथी ने कहा  हा एक दिन आप भी इनके जैसा हो जायेंगे। फिर सिद्धार्थ और आगे बढे तो उन्होंने एक बीमार व्यक्ति को देखा तो सिद्धार्थ ने फिर सारथी से पूछा की यह कौन है। तब वह सारथी बोला यह एक बीमार व्यक्ति है, यह किसी को हो सकता है।  इसके बाद वह और आगे बढे तो सिद्धार्थ ने एक शव को देखा फिर वह सारथी से पूछते है कि यह क्या है, तब सारथी बोला यह सब एक मृत व्यक्ति को लेकर जा रहे है इस संसार में जो जन्मा है उसको एक दिन मृत्यु को प्राप्त होना ही है। फिर वह अंत में एक सन्यासी को देखा फिर वह सारथी से पूछते है तब वह सारथी बोला की यह एक सन्यासी है यह अपना घर, परिवार और सारी सम्पति का त्याग कर साधु बनकर भगवान की पूजा करता है। यह सब देखने के बाद वह बह

जैसा आप सोचते है, आप वैसे ही बन जाते है भगवान बुद्ध की प्रेरणा दायक कहानी - Best Gautam Buddha stories in hindi for life

  Story of Gautam Buddha in hindi ।। Gautam Buddha story in hindi ।। Gautam Buddha life story in hindi ।। Siddharth Gautam Buddha story in hindi एक बार गौतम  बुद्ध और उनके शिष्य एक वन से गुजर रहे होते है। बहुत दूर चलने के बाद भगवान बुद्ध के शिष्य बुद्ध से कहते है, बुद्ध क्या हम कुछ देर विश्राम कर सकते है। बुद्ध कहते है, अवश्य अब हमे विश्राम करना चाहिए, ओ देखो एक बड़ा वृक्ष है। हम उसके नीचे विश्राम करेंगे। बुद्ध और उनके सभी शिष्य उस वृक्ष के नीचे बैठ जाते है। उनमें से एक शिष्य ने बुद्ध कहता है, बुद्ध आपने हमसे एक बात कही थी कि! हम जैसा सोचते है हम वैसा ही बन जाते है। कृपा करके इस कथन को विस्तार से समझाइए, बुद्ध कहते है अवश्य, मै तुम्हे एक छोटी सी कहानी सुनाता हूं। एक नगर में एक बहुत धनी सेठ रहता था। उसके पास धन की कोई कमी नहीं थी। परन्तु फिर भी हर समय धन इकट्ठा करने के बारे में सोचता रहता था। एक बार सेठ के घर उसका एक रिश्तेदार आता है। सेठ उसकी खूब खातेदारी करता है। बातों-बातों में सेठ का रिश्तेदार सेठ से कहता है, अरे सेठ जी हमारे नगर में एक नामी गिरामी सेठ रहता था। वह आप से ज्यादा धनवान